Vijay Kumar : राष्ट्रहित का गला घोंटकर, छेद न करना थाली में…

Spread the love

By strangling the national interest, do not pierce the plate…

राष्ट्रहित का गला घोंटकर,
छेद न करना थाली में…

मिट्टी वाले दीये जलाना,
अबकी बार दीवाली में…

देश के धन को देश में रखना,
नहीं बहाना नाली में..

मिट्टी वाले दीये जलाना,
अबकी बार दीवाली में…

बने जो अपनी मिट्टी से,
वो दिये बिकें बाज़ारों में…

छुपी है वैज्ञानिकता अपने,
सभी तीज़-त्यौहारों में…

चायनिज़ झालर से आकर्षित,
कीट-पतंगे आते हैं…

जबकि दीये में जलकर,
बरसाती कीड़े मर जाते हैं…

कार्तिक दीप-दान से बदले,
पितृ-दोष खुशहाली में…

मिट्टी वाले दीये जलाना…
अबकी बार दीवाली में…

मिट्टी वाले दीये जलाना…
अब की बार दिवाली मे …

कार्तिक की अमावस वाली,
रात न अबकी काली हो…

दीये बनाने वालों की भी,
खुशियों भरी दीवाली हो…

अपने देश का पैसा जाये,
अपने भाई की झोली में…

गया जो दुश्मन देश में पैसा,
लगेगा रायफ़ल गोली में…

देश की सीमा रहे सुरक्षित,
चूक न हो रखवाली में…

मिट्टी वाले दीये जलाना…
अबकी बार दीवाली में…

मिट्टी वाले दीये जलाना..
अबकी बार दीवाली में…

🪔🪔 हमारी कामना है 🪔🪔
दीपावली के दिए के प्रकाश की तरह
आपके जीवन में खुशियों का प्रकाश हो

माता लक्ष्मी जी की कृपा से
आप सभी को सुख-समृद्धि की सहज प्राप्ति हो

आप सभी को
दीपावली की हार्दिक शुभकामनाएं

🪔💐🎁💥💫✨🌟🪄🎊🎉🛍️🎁🪔

Vijay Kumar

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

© 2021 FunToo.in - सकारात्मक मानसिकता के साथ दिन की शुरुआत करना बहुत महत्वपूर्ण है। व्हाट्सप्प और फेसबुक के लिए ग्रीटिंग्स कार्ड और दैनिक शुभकामनायें ....Get more Entertainment and Fun with Latest Update - WordPress Theme by WPEnjoy