आपकी स्ट्रेंथ क्या है? इन 5 तरीकों से जानें इंटरव्यू और वाइवा में पूछे जाने वाले इस सवाल का सही जवाब

Spread the love

स्ट्रेंथ को पहचानना जरूरी है। इसी के भरोसे आप सफलता की सीढ़ी चढ़ पाते हैं। आपमें ईमानदारी, क्रिएटिविटी, कंपैशन कुछ भी आपकी स्ट्रेंथ हो सकती है।

जब आप नौकरी के लिए किसी इंटरव्यु में जाते हैं तो आपसे इंटरव्यु करने वाले साक्षात्कारकर्ता (Interviewer) पूछते हैं कि आप अपनी स्ट्रेंथ बताएं। ऐसे सवालों से आप कहीं न कहीं असमंजस में पड़ जाते हैं। हां, यह सच है कि हम दूसरों की स्ट्रेंथ बता सकते हैं, लेकिन बात जब अपनी स्ट्रेंथ की आती है, तब हम कन्फ्युज हो जाते हैं। लेकिन अब आपको कन्फ्युज होने की जरूरत नहीं है, क्योंकि यहां हम आपको बता रहे हैं, कुछ ऐसे टिप्स जिनसे आप अपनी स्ट्रेंथ को समझ सकते हैं।

स्ट्रेंथ क्या है?

स्ट्रेंथ एक ऐसी शक्ति है, जो आपको बताती है कि आप में क्या खूबी सबसे ज्यादा है। आपकी यही स्ट्रेंथ आपके करियर में, स्टडी में आपको आगे बढ़ाती है। इस स्ट्रेंथ को पहचानकर ही आप जीवन में सलफता प्राप्त कर सकते हैं। आपकी स्ट्रेंथ आपकी उत्सुकता, ज्यादा काम करने की आदत, अनुशासन में काम करना, आपकी क्रिएटिविटी, आपका धैर्य, दया आदि कुछ भी हो सकते हैं या फिर इनसे हटकर भी हो सकते हैं। हर इंसान की अपनी स्ट्रेंथ होती है। बस जरूरत है तो उसे पहचानने की।

स्ट्रेंथ को कैसे पहचानें?

1. अपना अनोखापन खोजें

हर व्यक्ति की अपनी स्ट्रेंथ होती है। कोई बुरे वक्त को अच्छे से हैंडिल कर पाता है, ऐसी स्ट्रेंथ होती है। कोई इमोशन्स से भरा होता है और हर चीज की इमोशनली देखता है। तो कोई अपने काम के प्रति बहुत ईमानदार होता है। ऐसे में आप में भी अपनी एक खूबी होगी। तो आप अपनी इस खूबी को पहचान सकते हैं। अपने दोस्तों के बीच, परिवार के बीच देंखें कि लोग में क्या खास बताते हैं। बस वही खासियत आपकी स्ट्रेंथ है।

2. कोई ऐसा काम जिसके करने से थकान नहीं होती

आपकी स्ट्रेंथ पहचानने का दूसरा तरीका है कि आप खुद में वो चीजें ढूंढ़ें जिन्हें करने में आपको थकान, बोरियत, आलसपन, बोझपन महसूस नहीं होता। जैसे अगर खाना पकना किसी की स्ट्रेंथ है तो वह इस काम से कभी बोर नहीं होगा। तो वहीं, अगर किसी की स्ट्रेंथ निवेश में है तो वह उसे अच्छे से कर पाएगा। इस तरीके से आप अपने हिस्से के काम को देखें को आपको उसमें क्या सबसे अच्छा लगता है करना। बस वही आपकी खूबी बन जाएगी।

3. अपनी सफलताओं को लिखें

आपने पिछले सालों में जो भी अचीव किया है, उसे लिखें। यह सफलताएं छोटी और बड़ी दोनों हो सकती हैं। इन्हें लिखने से आपको यह समझ आएगा कि आपने कैसे उन सफलताओं को पाया था। आपको यह सफलता मिली क्योंकि उसे पाने की आपमें स्ट्रेंथ थी। यह सफलता आपकी किसी कविता पर आपको ईनाम मिला हो या आपको बेस्ट एम्प्लॉय का अवॉर्ड मिला हो, कुछ भी हो सकती है। इस तरह से लिखकर आप अपनी स्ट्रेंथ को पहचान सकते हैं। इससे आपको अपना कौशल समझ आएगा। आप स्लीप डायरी भी बना सकते हैं। जिसमें अपनी सफलताओं को लिख सकते हैं।

4. कौशल को सीखें

कई बार होता है कि जब कुछ नया सीखते हैं तो अच्छा लगता है। कुछ काम ऐसे भी होते हैं जिन्हें करने पर आपको अच्छा नहीं लगता। जब आप नई स्किल्स को सीखना शुरू करते हैं, तब आप अपनी स्ट्रेंथ को और अच्छे से पहचानते हैं। उदाहरण के लिए आपमें कम्युनिकेशन स्किल्स अच्छी हो सकती, आप अच्छे इन्वेस्टर हो, आपमें लीडरशिप क्वालिटी अच्छी हो कुछ भी हो सकता है। लेकिन यह सब खूबियां आप तभी पहचान पाएंगे जब आप खुद को कुछ नया सीखने का टास्क देंगे। इससे आपका सामाजिक दायरा भी बढ़ता है।

5. अपने करीबियों से फीडबैक लें

अगर अब भी आप अपनी स्ट्रेंथ को पहचानने में मुश्किल में हैं तो घबराइए मत। आप जिन लोगों को जानते हैं, जो आपके करीबी हैं, उन्हें एक वॉट्सएप मेसेज या मेल कर सकते हैं और उनसे अपनी स्ट्रेंथ पूछ सकते हैं। यह फीडबैक आपको आपकी स्ट्रेंथ को पहचानने में मदद करेगा।

स्ट्रेंथ को पहचानना जरूरी है। इसी स्ट्रेंथ के भरोसे ही आप सफलता की सीढ़ी चढ़ पाते हैं। आपमें ईमानदारी, क्रिएटिविटी, कंपैशन कुछ भी आपकी स्ट्रेंथ हो सकता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

© 2021 FunToo.in - सकारात्मक मानसिकता के साथ दिन की शुरुआत करना बहुत महत्वपूर्ण है। व्हाट्सप्प और फेसबुक के लिए ग्रीटिंग्स कार्ड और दैनिक शुभकामनायें ....Get more Entertainment and Fun with Latest Update - WordPress Theme by WPEnjoy